Tuesday, October 13, 2009

पति पूजा म लीन..

नैहर जब से छूट गवा॥
तब से उपजी ब प्रीत ॥
सोच समझ के चाल चली॥
न दिखा होय विपरीत ॥
मान मर्यादा सब कय समझी॥
सब कय करी सम्मान॥
सूझ बूझ अब साथ है॥
करी नही अपमान॥
प्राताकाल म उठ जायी॥
घर कय करी सब काम॥
पति पूजा म लीनरही॥
बोली न अनाप सनाप॥

1 comment:

  1. आंख और हाथ का बस इतना फलसफा है।
    समझो तो ठीक वरना हर मौसम ख़फ़ा है।

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...