Tuesday, September 8, 2009

अभी कठिन है डगर जीवन की॥

हे यार अभी तकरार करो मत॥
प्यार की घुमची खिल जाने दो॥
ये प्यार तुम्हारे साथ रहेगा॥
अभी ज़रा तो इठलाने दो॥
मैअर्पित कर दूगी तन को॥
वह दिन जैसे आहेगा॥
अभी उमर है बचपन वाली॥
मुझे ज़रा तो मुस्काने दो॥
तुम दर पे हमारे आया करो॥
मै देख के तुमको हस दूगी॥
बात करेगे चंचल मन से॥
दिल की बात बता दूँगी॥
अभी कठिन है डगर जीवन की॥
उसे ज़रा तो सुलझाने दो॥

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...