Wednesday, September 30, 2009

आया त्यौहार दिवाली का॥

आया त्यौहार दिवाली का॥
बच्चो की खुशहाली का॥
बबलू कहते पाप आ से॥
मुझको अल पी लाना है॥
गुडिया कहती मम्मी से ॥
हमें सितार बजाना है॥
पापा बड़े अचम्भे में है॥
ये मौसम कंगाली का॥
आया त्यौहार दिवाली का॥
विवि कहते पति देव से ॥
जब बोनस तुम पाओगे॥
सबसे पहले हार सुनहरा॥
ला मुझको पहनाओ गे॥
पति देव तो मूक बने है ॥
रूपया देना उधारी का॥
आया त्यौहार दिवाली का॥
फरमाइश से तंग हुए है॥
बब्लू गुडिया के पापा जी॥
पत्नी तो सर चढ़ कर बोले॥
कभी न कहती आओ जी॥
भाग न सकते बच्चो के पापा॥
जो ठेका लिए रखवाली का॥
आया त्यौहार दिवाली का॥
बच्चो की खुशहाली का॥

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...