Saturday, September 26, 2009

लो क सं घ र्ष !: विधि के विधान की कारा


तोड़ना नही सम्भव है,
विधि के विधान की कारा
अपराजेय शक्ति है कलि की,
पाकर अवलंब तुम्हारा

श्रृंखला कठिन नियमो की,
विधना भी मुक्त नही है
वरदान कवच से धरणी ,
अभिशापित है यक्त नही है

हो अजेय शक्ति नतमस्तक ,
पौरुष बल ग्राह्य नही है
तप संयम मुक्ति विजय श्री ,
रोदन ही भाग्य नही है

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल "राही

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...