Thursday, September 24, 2009

लो क सं घ र्ष !: अभिलाषा के आँचल में...


अभिलाषा के आँचल में ,
भंडार तृप्ति का भर दो
मन-मीन नीर ताल में,
पंकिल हो यह वर दो

रतिधरा छितिज वर मिलना ,
आवश्यक सा लगता है
या प्रलय प्रकम्पित संसृति,
स्वर सुना सुना लगता है

ज्वाला का शीतल होना,
है व्यर्थ आस चिंतन की
शीतलता ज्वालमयी हो,
कटु आशा परिवर्तन की

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल "राही"

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...