Friday, August 14, 2009

जन्माष्टमी पर विशेष --नटवर नागर --

सखि ! नटवर नागर मिले राह में जाते ।
मोर-मुकुट की जगह ,
शान से पोनी टेल बनाए।
पीताम्बर की जगह ,
सूट पर टाई रहे सजाये।
मोबाइल गलबहियां डाले ,
कंठहार लज्जित होजाए ।
माउथ आर्गन दबा अधर में ,
वंशी की भी सौतन लाये।
थिरक-थिरक नौभंगी -मुद्रा
पल-पल मिले बनाते ।
सखि------

ललिता संग फिरें डिस्को में,
नेहा संग डांडिया खेलें।
कुसुमा संग लन्च पर जाएँ,
आइसक्रीम लीना संग खाएं।
राधाजी को धीर बंधाएं ,
डिनर चलेंगे साथ तुम्हारे ।
वाटर पार्क में मन-मोहिनी संग ,
सखि,वो मिले नहाते ।
सखि -----

द्वापर में इक ही नन्द लाला,
गोपिन के संग होरी खेलें।
कैसी माया रची कन्हैया ,
इस कलयुग में आते-आते।
गली-गली में नटवर डोलें,
सखी-सखी संग रास रचाते।
कितने नट-नागर मिलते हैं ,
इन राहों में आते-जाते।

सखि! गोपी-नागर मिले राह में जाते ।
सखि,नटवर नागर मिले राह में जाते।
सखि, गिरधर नागर मिले राह में जाते।
सखि! नट-नागर जी मिले राह में जाते॥

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...