Monday, August 17, 2009

ग़ज़ल

मैं तेरे दिल को सुकून दूँगा तेरे दिल नज़र को करार दूँगा
बस अपने दिल में जगह दे मुझको मैं तेरी दुनिया संवार दूँगा
कोई नज़र में बसा ले मुझको नही नही यह मुझे गवारा
तेरी अमानत है यह प्यार मेरा तुझे यह इख्तियार दूँगा
खुश परस्तों से राबता क्या गरज बन्दों से वास्ता क्या
जो मेरे सुख दुःख को अपना समझे उसी को अपना प्यार दूँगा
हज़ार मेरी वफ़ा से दामन बचाओ लेकिन मुझे यकीन है
तुम्हारे दिल में भी किसी दिन वफ़ा का जज्बा उभार दूँगा
तुम्हारी यह जान यह इज्ज़त हकीकतन है मेरी बदौलत
जहाँ में खातिर फिरो गे ठोकर मई जब नज़र से उतार दूँगा
"अलीम" ज़माना कदम कदम पर हज़ार कांटे बिछाएं फिर भी
यह मेरा वादा है ज़िन्दगी से की रूप तेरा निखार दूँगा

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...