Friday, August 28, 2009

महगाई से हाल बुरा ब ॥

महगाई से हाल बुरा ब ॥
रोवय पेटू बोटी का॥
चार दिना से नही ब खाए॥
सब्जी मिलय न छोटी का॥

बाप बेहाल विधाता कोशय॥
कैसे कर्मठ गांठी राम॥
लरिकन का कैसे समझायी॥
चौपट धंधा छूटा काम॥
नन्कौवा बनियानी का फाड़े॥
रूपया मांगे लंगोटी का...

यही झंझट म देही बोली गय ॥
पौरुष तन से भागत ब॥
कैसे चले अब घर कय खर्चा॥
रात बहेतू जागत बा॥
कहा से रूपया मांग के लायी ॥
आता नही बा रोटी का॥

चारव जूनी चाचर होत॥
ऊब गवा बा जान॥
तल्लुक्दारय उलटा बोलाय ॥
होत रोज अपमान॥
bओले महरिया छत के ऊपर॥
हठ कर बैठी धोती का॥

महगाई से हाल बुरा ब ॥रोवय पेटू बोटी का॥

1 comment:

  1. this is life fact is very important because this is regular life in the daily life so that is not false this is a large true so that i hope some thing right thing it is not roungh thing because it is a large inflation you can know that what is this inflation this beside so thus best of luck i am roungh and mad

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...