Saturday, August 15, 2009

आज का सवाल


आज का सवाल :- क्या हम आजादी का पर्व परंपरा में मानते है, पवित्र मन से ? "मानवता का हो गया अस्त, फिर भी १५ अगस्त " आपके विचार आमंत्रित है
cg4bhadas.com
यहाँ आगे पढ़ें के आगे यहाँ

1 comment:

  1. मानवता का कभी अंत नहीं होगा! इंसानी फितरत जो आज है,वो सदियों पहले भी थी...! गर achhe इंसान हैं, तो साथ बुरे भी मिलेंगे!ये तो क़ुदरत का नियम है!

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://lalitlekh.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://shama-kahanee.blogspot.com

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...