Saturday, August 22, 2009

लो क सं घ र्ष !: अलि को पंकिल कर देता...


बंधन का ज्ञान किसे है ,
सन्दर्भ शून्य कर देता
मादक मकरन्द लुटाता ,
अलि को पंकिल कर देता

भवसागर जीवन नैया ,
लघुता पर रोदन करती
इश्वर की माया विस्तृत,
कर्मो का शोधन करती

प्रणय ज्वाल में तिल तिलकर
जीवन का जलते जाना
प्रतिपल लघुता आभाषित ,
संयम का गलते जाना

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल "राही"

1 comment:

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...