Tuesday, August 11, 2009

स्वाइन-फ्लू में तुलसी ----


तुलसी जिसे अंग्रेजी में 'होली-बेसिल', संस्कृत में मंजरी व कृष्णातुलसी -;मलयाली में त्रित्तावू ;तमिल-तेलगू में थुलसी;मराठी में तुलसी एवं वैज्ञानिक नाम "ओसीमम सेंकतम है ; यूँ तो हजारों गुणों से युक्त आयुर्वेदिक औषधि है ,परन्तु इसके दो मूल गुण --शरीर के प्रतिरोधी तंत्र को सुद्रढ़ करना व एंटी-ऑक्सीडेंट गुण -- हर प्रकार के फ्लू ,वाइरस,आदि से शरीर की रक्षा करता है ,अतः स्वाइन -फ्लू में सुबह-शाम दोनों समय तुलसी की पत्तियों को चाय के साथ उवाल कर पीने से रोकथाम व रोग में लाभ होता है
तुलसी पर ;आधुनिक चिकित्सा का अभी ध्यान गया है। इसे 'इन्कम्परेब्ल वन ' ;द एलिक्सर ऑफ़ लाइफ ' ;क्वीन ऑफ़ हर्व्स ' ;भी कहा जाता है। तुलसी में यूजीनोल,बी -करियो फ़ाइलिन.,कुछ तर्पींस,केम्फींस ,कोलिस्त्रोल,व मिथाइल एस्तेर्स होते हैं।
तुलसी में सुगर -कंट्रोल करने,रक्त को पतला करने व फर्टीलिटीकम करने के गुण भी होते हैं।
----सुवहों-शाम तुलसी के पत्तों की चाय पीयें ,स्वाइन -फ्लू से बचें ।

2 comments:

  1. thanx for your information
    will definaetly pass it on to all my contacts

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...