Sunday, July 19, 2009

ग़ज़ल --जाने कहाँ गए ?

सीधे थे सच्चे सरल थे ,जाने कहां गए ।
कैसे बताएं क्या कहें ,दिल में समा गए।

उनके सभी करम थे, हमारे ही वास्ते ,
क्या क्या न दुःख सुख घात जमाने के भा गए।

प्रेमिल थी हर निगाह थी हर सांस में दुआ ,
लो याद आए अश्रु इन आंखों में आगये ।

सोचा था भूल जायेंगे ,हम साथ वक्त के,
हर वक्त बनके वक्त ,मेरे साथ छागये ।

होकर के दूर भी वो हमसे दूर कब गए,
जब जब भी चाहा 'श्याम हम इस दिल में पागये॥

1 comment:

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...