Friday, July 24, 2009

पूरब से पछुआ डोली है॥

बहुत समय के बाद आज॥
पूरब से पछुआ डोली है॥
अनजाने में य भूल से॥
मुंडेर पे कोयल बोली है॥
सुबह सुबह जब रवि ने ..
आँगन में किरण बिखेर दिया॥
हँसा गुलाब खिल खिला कर॥
saरी सुगंध उडेर दिया॥
दीर्घ काल से रूठी मैना॥
फ़िर तोता से बोली है॥

बहुत समय के बाद आज॥
पूरब से पछुआ डोली है॥

सूखी कलियाँ हरी हुयी है॥
उत्सव का मौसम आया है॥
ममता से झुक गई सखा है॥
गगन नीर टपकाया है॥
आँखे भर गई देख प्रीतम को॥
उनकी सूरत भोली है॥


बहुत समय के बाद आज॥
पूरब से पछुआ डोली है॥

नभ से पुष्प की वर्षा होती ॥
मधुर गीत नदियों ने गा ली॥
मौसम मतवाला हंस के बोला॥
तेरी दुःख की बदली जा ली॥
सूखी नैना बहुत दिनों पर॥]
फ़िर से पलके खोली है॥
बहुत समय के बाद आज॥
पूरब से पछुआ डोली है॥

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...