Monday, July 13, 2009

माँ माँ माँ माँ माँ

मै भी उसको देख चुका हूँ॥
मै भी उसको भेट चुका हूँ॥
मै भी उसका रसपान किया॥
मै भी उससे ज्ञान लिया॥
मै भी उसके आँचल में सोया॥
मै भी उसकी गोदी में रोया॥
मै भी उसका दिल दुखाया॥
मै भी आधी रात जगाया॥
मै तो माँ माँ करके बढ़ा॥
माँ क्या होती उसी पढा॥
माँ की ममता अद्भुत प्यारी॥
माँ ही बच्चो की कराती रखवाली...

6 comments:

  1. maa vo khuda ki den hai jo kismat walo ko milti hai and koi bhi maa ki jagah le nahi sakta
    aur ab jab mein khud ek maa hu , mein samajhti hu ki maa banana kitna mushkil hai , kitna tyaag, kitni tapasaya karni padti hai.par agar bacche maa ki mahanta ko maan kar uski taarif mein 2 shabad bhi kah de to maa ka jeewan safal

    ReplyDelete
  2. आप लोगो की समस्त टिप्पणिया बहुत सुन्दर लिखी है ..धन्यवाद..

    ReplyDelete
  3. maa to maa hoti hai uske vrnan ke liye shabd nahi .marmsparshi aur sunder rachana .

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...