Friday, July 31, 2009

ग़ज़ल --तेरे बिन ----- डा. श्याम गुप्त

जितना दूर जाता हूँ ,
उतना पास पाता हूँ।

तेरे बिन क्या होता है,
तुमको आज बताता हूँ।

तेरे गीतों की सरगम ,
मन-वीणा पर गाता हूँ।

कलछा चिमटे चकले पर ,
सुर लय ताल मिलाता हूँ।

तुम्हें भुलाना चाहूँ तो,
यादों में उतराता हूँ।

गज़लें लिखना चाहूँ तो ,
काफिया भूल जाता हूँ।

तुम भी करते होगे याद,
ख़ुद पर ही इतराता हूँ।

अबतो आही जाओ 'श्याम,
वरना मैं आजाता हूँ॥


1 comment:

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...