Wednesday, July 22, 2009

जीवन से खिलवाड़ करके॥

आज मेरा दिल फ़िर रोया है॥
बीते बातें याद करके॥
वह ठुनक के मुझसे चली गई है॥
मीठा मीठा प्यार करके ॥
उसके इशारे पे चढाते थे॥
गगन की ऊंची चोटी पर॥
मगन जिया उसका रहता था॥
मै मुग्ध था उसकी ठिठोली पर॥
शायद रिश्ता तोड़ गई वह ॥
जीवन से खिलवाड़ करके॥

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...