Wednesday, July 8, 2009

आई रे बरखा बहार-----

झर झर झर,
जल बरसावें मेघ;
टप टप बूंद गिरें,
भीजै रे अंगनवा , हो....
आई रे बरखा बहार,हो....।
धडक धडक धड,
धडके हियरवा ,हो॥
आये न सजना हमार..हो...;
आई रे बरखा बहार॥

कैसे सखि झूला सोहै,
कज़री के बोल भावें;
अंखियन नींद नहिं,
ज़ियरा न चैन आवै।
कैसे सोहैंसोलह श्रिन्गार ॥हो...
आये न सजना हमार॥

आये परदेशी घन,
धरती मगन मन;
हरियावे तन,पाय-
पिय का सन्देसवा।
गूंजे नभ मेघ-मल्हा..हो....
आये न सजना हमार॥

घन जब जाओ तुमि,
जल भरने को पुनि;
गरजि गरजि दीजो,
पिय को संदेसवा।
कैसे जिये धनि ये तोहार...हो....
आये न सजना हमार॥
हाँ

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...