Saturday, July 11, 2009

तस्वीर बदल तो मेरी तुम

तस्वीर बदल तो मेरी तुम
मैभी तेरी बन जाऊ
चुटकी भर सिंधूर लगा दो॥
मै तेरे रंग में रंग जाऊ॥
अपनी छाप मेरे पर छोडो॥
लगी रहे बस तेरी धुन॥
तस्वीर बदल तो मेरी तुम
जो टाक रहे है नज़र गडाए॥
जज़र झुका के जायेगे॥
मेरी तेरी प्रेम कहानी
औरो को सुनाये गे॥
लोग समझाने लगेगे अपना
नही झेदेगे कोई धुन॥
तस्वीर बदल तो मेरी तुम
चटक मटक चहरे पे रहता॥
लोगो को बात खटकती है॥
जी गलियों से मै जाती हूँ॥
ब्याग की बानी चलती है॥
मरने की नौबत न आए
तेरी प्यारी प्यारी बातें सुन॥
तस्वीर बदल तो मेरी तुम

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...