Tuesday, June 16, 2009

पीर ज़माने की -- ग़ज़ल

उसमें घुसने का ही हक़ नहीं मुझको,
दरो-दीवार जो मैंने ही बनाई है।

मैं ही सिज़दे के काबिल नहीं उसमें ,
ईंट दर ईंट मस्जिद ,मैंने चिनाई है ।

कितावों के पन्नों में उसी का ज़िक्र नहीं,
पन्नों -पन्नों ढली वो बेनाम स्याही है।

लिख दिए हैं ग्रंथों पे लोगों के नाम ,
अक्षर-अक्षर तो कलम की लिखाई है।

गगन चुम्बी अटारियों पे है सबकी नज़र ,
नींव के पत्थर की सदा किसने सुनाई है।

वो दिल कोई दिल ही नहीं जिसमें ,
भावों की नहीं बज़ती शहनाई है।

इस सूरतो-रंगत का क्या फायदा 'श्याम,
यदि मन में नही पीर ज़माने की समाई है॥

2 comments:

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...