Saturday, June 20, 2009

मै और मेरी ..तन्हायिया.......


मै और मेरी ..तन्हायिया........

हर रात का किस्सा है
हर बात का किस्सा है
हर रात की मौत के बाद ..
नयी सुबह की जिंदगी
मे मेरा भी हिस्सा है ..
जीने की इच्छा लिए
हर रात को मै..मरता हूँ
फिर भी कोसो .दूर हूँ
अपने इस जीने से
मै और मेरी ..तन्हायिया
साथ है मेरे ..
दर्द और तकलीफ ...साथ
लिए चलता ..हूँ मै
इन रिश्तो की भीड़
मे...
किसी अपने को
खोजता सा हूँ मै...
क्या कहू..और
किस से कहू
हर पल यही सोचता हूँ ...
चिलचिलाती धूप मे भी
मै एक बूंद पसीने
को भी
तरसता हूँ मै ...........
(कृति ...अनु..(.अंजु )

1 comment:

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...