Wednesday, June 3, 2009

लोकसंघर्ष !: राजघाट के सपने कौडियों में बिकते है....

तीरगी से डरते है।
यू दीये भी जलते है ।

साँप दोस्त बनकर ही
आस्ती में पलते है।

शेर जिंदगी के सब
आंसुओ से ढलते है।

राजघाट के सपने
कौडियों में बिकते है।

वाह क्या है फनकारी
आस्था को चलते है।

टूटना ही किस्मत है
जो कभी न झुकते है।

-डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल ''राही ''

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...