Thursday, June 4, 2009

लोकसंघर्ष !: दीप शिखा सी जलती जाँऊ...


जीवन से तुम ,या तुमसे जीवन ये मैं समझ न पाँऊ।
केवल तुमसे लगन लगी है फिर भी मिल न पाँऊ ।
दीप शिखा सी जलती जाऊ ॥

शबनम तेरे प्यार की हरदम बिखरी रहती है।
तन को छुकर पवन संदेशा तेरा कहती है।
व्याकुल मिलने को मन मेरा फिर भी मिल न पाँऊ -
दीप शिखा सी जलती जाँऊ ।

कभी लगे श्रृंगार अधूरा पर मैला सा ।
कभी लगे विश्वाश अधूरा मन मैला सा है ।
ऊहापोह में बीती कितनी घडिया गिन न पाँऊ-
दीप शिखा सी जलती जाँऊ।

हर मंजिल की कोई न कोई राह हुआ करती है ।
बहते बहते नदिया हरदम सिन्धु मिलन करती है।
पल पल घटती साँसों का व्यापार समझ न पाँऊ-
दीप शिखा सी जलती जाँऊ।

-डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल ''राही ''



loksangharsha

2 comments:

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...