Saturday, May 16, 2009

Loksangharsha: यहि देश कै भैया का होई ॥ आओ हम....

सत्ता की लाठी से गुंडे ,जबरन भैंसी हथियाए रहे
न्याय के खातिर घिसई काका , कोर्ट मा घिघियाये रहे
यहि देश कै भैया का होईआओ हम....
धूर्त सियारऊ गीता बांचै ,बैठ बिल्लैया कथा सुन रही
भेङहे करें संत सम्मलेन,गदहन की घोड़ दौड़ होए रही
यहि देश कै भैया का होईआओ हम....
नंग धड़ंग नन्हे मुन्ने, लोटी धूल गुबारन मा
टामी मेम की गोद मा सोवैं , घूमे .सी कारन मा
यहि देश कै भैया का होईआओ हम....
ठग - बटमार ,छली -कपटी ,अब पहिरैं साधुन कै चोला
मुंह से राम -राम उच्चारैं ,बगल मा दाबे हथगोला
यहि देश कै भैया का होईआओ हम....

-मोहम्मद जमील शास्त्री

2 comments:

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...