Friday, May 8, 2009

Loksangharsha: बुज का पत्थर पिघलने लगे


हम जो नजरो में सजने लगे
बेवजह लोग जलने लगे

पुश्त के जख्म रिसने लगे
दोस्ती हम समझने लगे

ये प्रजातंत्र क्या तंत्र है-
खोटे सिक्के भी चलने लगे

सच इतना संवारो नही -
आइना भी मचलने लगे

आह में वो कशिश लाइए-
बुज का पत्थर पिघलने लगे

जबसे वो प्यार करने लगे -
हम मोहब्बत से डरने लगे

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल 'राही'

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...