Thursday, May 7, 2009

Loksangharsha: स्वर्ग धरती पे उतरा किए



अश्रु नयनो से ढलका किए
छन्द गीत निकला किए

मन सदा ही भटकता रहा-
भंग अधरों से निकला किए

झूठ दर्पण ने बोला नही-
अपने चेहरे ही बदला किए

प्राण संकट में है और वो-
बिखरी अलके संवारा किए

यूं कुचलो मेरी आस्था-
हम तो सपनो में बहला किए

वस्त्र शव का धूमिल हुआ-
जीव काया ही बदला किए

पीर में मन ये जब-जब लगा -
स्वर्ग धरती पे उतरा किए

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल 'राही'

1 comment:

  1. निस्संदेह ग़ज़ल अच्छी है, लेकिन शब्द बोलचाल के होते तो ज्यादा प्रभावी होती.

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...