Friday, May 15, 2009

Loksangharsha: यहि देस कै भैया का होई

आओ हम सब मिलिकै रोई यहि देस कै भैया का होई॥

खादी खाकी मौसेरे भाई,काटे मनइन कै गटई
आपन-आपन धरम छोडि ,उई करत है दुनो चोरकटई
यहि देस कै भैया का होई आओ हम....

तुम
देखो जाई कचेहरी मा,सब रोवा-रोवा नोच लेई।
अर्दली ,वकील और पेशकार ,मिली खून चूस जस जोंक लेई
यहि देस कै भइया का होई आओ हम....

राम अंधेरे जन-प्रिय नेता ,काटि चुके दस साल जेल है।
और लड़े इलेक्शन जेलै से,मुल अब तो उई मंत्री जेल है
यहि देस कै भइया का होईआओ हम....

बासी रोटी टूका-टूका ,घिसुआ कै लरिके बाँटी रहे
जनता के सेवक नेताजी ,मुर्गा बिरयानी काटि रहे
यहि देस कै भइया का होईआओ हम....

नेता जी के घर भरी पड़ी , काजू बादामन की बोरी
मुल मूंगफली का तरस रहे,मजदूरन कै छोरा -छोरी
यहि देस कै भइया का होई आओ हम....

मोहम्मद जमील शास्त्री
प्रवक्ता (हिन्दी)

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...