Thursday, May 14, 2009

Loksangharsha: तुझसे बेहतर तेरी अदा जाने..


जितना बढ़ चढ़ के आइना जाने॥
हुस्न क्या शै है कोई क्या जाने॥

किस की जुल्फों को छूके आई है-
महकी
महकी हुई हवा जाने

मौत किसको मिली हयात किसे-
तुझसे बेहतर तेरी अदा जाने

ऐश वालो से पूछते क्या हो-
लज्जत गम तो ये गदा जाने

यु तो रहते हो साथ साथ मगर -
कब
बिछड जाए वो खुदा जाने

किस कदर तुमसे प्यार है भगवन -
ये
मेरी अपनी आत्मा जाने

मैं वो ''राही'' हूँ जो फजले खुदा
रास्ता
सिर्फ़ प्यार का जाने


डॉक्टर
यशवीर सिंह चंदेल ''राही''

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...