Tuesday, May 12, 2009

Loksangharsha: छूट गया बचपन


उम्र की
सीढिया चढ़ते हुए,
जाने कब
किस सीढ़ी पर
छूट गया बचपन
मन पर
बङ्प्पन के खोल चढाकर
चला आया हूँ मैं
इतनी दूर
फिर भी क्यों टीस उठती है
बार-बार,
उस बिछङे हुए बच्चे की याद?
बीते हुए बचपन में
फिर फिर लौट जाने की
क्यों होती है चाह?
अकेले में,
जब कभी आईने के सामने,
खुशी में त्यौहार में,
कभी -कभी भीड़ के सामने,
कहाँ से प्रकट हो जाता है वह?
पलके झपकते,
मुहँ चिढाते ,
बच्चो के साथ
फिर से बच्चा बना देता है मुझे
जब भी कोई खुशी असह्य दुःख गहरा,
उतार देता है बङप्पन का नकाब
पल दो पल के लिए
बाहर निकल आता है बचपन
लेकिन बाकी सारे समय,
दिल के किसी अंधेरे कोने में
किसके डर से छिपा रहता है वह?
छटपटाता ,कसमसाता रहता है बचपन


-अनूप गोयल

3 comments:

  1. very nice poem

    my son is 1 year $ 3 months old and in him i feel my bachpan.

    ReplyDelete
  2. bahut likha hai aapne.vaise bhi bachpan vapas kahan aata yaad hi reh jata hai.....kash vapas mil jye....bachpan to pure jeevan ka raj-paat jaisa hota hai.

    ReplyDelete
  3. इस भाग दौड़ वाली जिन्दगी में कब बच्चपन पीछे छुटा
    पता ही नहीं चला .......और अब अपने बच्चो के साथ भी वही
    कर रहे है हम......छोटी सी उम्र में उन्हें हमने बहुत बड़ा कर दिया है

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...