Friday, May 8, 2009

Loksangharsha: अकुलाहट


अपने मन की अकुलाहट को
कैसे
लयबद्ध करूं
पीड़ा से उपजी कविता को
कैसे व्यक्त करूं ,

सीने में कब्र खुदी हो तो
कैसे
मैं सब्र करूं
दिल
में उठते अरमानो को
कैसे
दफ़न करूं ,

अन्तर में खोये शब्दों की
कैसे
मैं खोज करूं
आँखों
में उमड़ा पीड़ा को
कैसे राह करूं,

मन में उठती ज्वालाओं का
कैसे
सत्कार करूं
धू
-धू जलते अरमानो का
कैसे
श्रृंगार करूं,

अपने मन की अकुलाहट को
कैसे लयबद्ध करूं
पीड़ा से उपजी कविता को
कैसे
व्यक्त करूं,
-अनूप गोयल

2 comments:

  1. jab man udas hota hai to anubhuti abhivykt nhi kar pate par ye andhera kuch der ka hai bhir hone ko hai .
    shobhana

    ReplyDelete
  2. kitna sunder likha hai peedha se upji kavita ko kaise vayakt karu?very touching...

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...