Saturday, May 2, 2009

Loksangharsha: प्रजातंत्र पत्ता अ़स हालै...


प्रजातंत्र पत्ता अ़स हालै,सत्ता बंटाधार;
देश का कोई जिम्मेदार
भूखन मरैं करैं हड़तालै , कोई सुनै पुकार;
डंडा -लाठी -गोली, बरसे परै करारी मार;
अत्याचार अनाचारों का,होइगा गरम बाजार;
रोज बने कानून कायदा,नेतन कै भरमार ;
चोरी,डाका,कतल,राहजनी ,कोई रोकनहार ;
दारु- पैसा बांटिक जीते,गुण्डे चला रहे सरकार;
चोर -ड़कैतन की रक्षा मा खड़े हैं ,थानेदार;

वकील-डॉक्टर-शिक्षक ,बालक जेल मा करें विहार;
देश का कोई जिम्मेदार

बृजेश भट्ट बृजेश

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...