Friday, May 1, 2009

Loksangharsha: फूल गायें तो समझो वसंत है ..



महकी हुई हवायें तो समझो वसंत है
कांटो में फूल गायें तो समझो वसंत है
कोयल की तान पर नए पातो का थिरकना-
भौंरा भी गुनगुनाये तो समझो वसंत है

तिरछी हो नैन कोर तो समझो वसंत है
अधरों पे प्यासी भोर तो समझो बसंत है
उलझी लटें सवाँरने का होश तक हो-
चितवन में हो चितचोर तो समझो वसंत है

बहकी हुई अदाएं तो समझो वसंत है
यौवन चुभन जगाये तो समझो वसंत है
प्रियतम को रात छोटी लगे प्रिय के साथ में-
जोगी भी बहक जाए तो समझो वसंत है

मिटा संसार है प्यार की टोलियाँ
बोलते है सभी कुछ नई बोलियाँ
आपके प्राण में काव्य सुरसरि बसी-
ये लगेगा तभी जब बजे तालियाँ

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल 'राही'

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...