Sunday, May 3, 2009

हाँ तो भाई साहब ...ब्राहमणवाद को पहचानिये ...

टिप्पणी पे की गयी टिपण्णी , पर टिप्पणी .................................

आपका कहना लाज़मी है ..मैंने तो पहले हीं ज़िक्र कर दिया की सवाल अगर ब्राह्मणों ने खड़ा किया , या ऐसी मानसिकता ने , तो ज़वाब भी तो वहीँ बने।
जहाँ तक बात है साँप की दूध पीने की , तो वह सत्य है सभी के लिए ..... साँप ब्राह्मणों के घर में हीं दूध नही पीते
पता नही आप किस आधार पर गाँधी की हत्या , इंदिरा और राजीव की हत्या ब्राह्मण्वादि सोच का प्रतिफल मानते हैं। अगर सच में ऐसा है तो आपका विश्लेषण जग जाहिर होना चाहिए। मुझे तो लगता है की , गाँधी की हत्या कर गाँधी को महान बना दिया गया वरना उनके काबिलियत पे संदेह बरक़रार रह जाता

गाँधी तो स्वयं , हार चुके थे , उस निहत्थे बुढे गाँधी पे गोली खर्च करने की क्या आवश्यकता थी उनकी सजा उनकी ज़िन्दगी थी गाँधी हमेशा हीं अंग्रेजियत के दुश्मन थे अंग्रेजों के नहीं , और इसके पलट में नेहरू अंग्रेजों के दुश्मन थे , अंग्रेजि़त के नहीं इतना हीं फर्क गाँधी और नेहरू को पास भी रखा और बहुत दूर भी आज जब भारतीय शिक्षाविद् उन्हें राष्ट्र पिता कहतें हैं , ये भी बात पल्ले नही पड़ती। राष्ट्र का कोई पिता भी हो सकता है , यानि राष्ट्र व्यक्ति से बड़ा नही ?
मुझे तो "हिंदुत्व " का रथ और हिंदू का मतलब समझाना पड़ेगा ! वह जो भी व्यक्ति जो भारत को अपनी पुण्यभूमि और कर्मभूमि मानता है , वह हिंदू है , और जो संस्कृति यहाँ , इस भूमि पर उपजी , वही संस्कृति में विस्वास हिंदुत्व में विश्वास करना है ! मुझे नहीं लगता की बीजेपी इस से अलग कुछ बात करती है

यह तो आप जैसे मानवतावादियों का बनाया गया भ्रम जाल है जो, मुस्लिम और अन्य निचले वर्णों को यह भय दिखाकर की, भाई साहब भाजपा से दूर रहियो , जायेगी तो गोधरा मच जाएगा , या रामराज्य जाएगा ......बताकर बेवकूफ बना रहे हैं यह कैसा प्यार है , की बच्चा भूखा रो रहा है , और माँ अपने पायल पे पोलिश लगा रही है शायद आपके कहे अनुसार तो , कांग्रेस ऐसी हीं माँ लगती है. आपकी बातों में सिर्फ़ दोषारोपण है , तथ्य और तर्क की कोई झलक देखने को नही मिलता !
उम्मीद है आगे आप तथ्यों का सहारा लेंगे , बेबुनियाद आरोपों का नहीं

1 comment:

  1. arre bhai sach kyon karrrwa lagta hai tumkooo
    aur yeh tum kya humein manavtavadi bata rahe hooo............
    too tum kya shaitanvadi ja aantakwadi hoo...........???????
    lagta to jahi hai vaise mujhe......

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...