Saturday, May 16, 2009

ग़ज़ल

उदास क्यों हो उदास क्यों हो
तुम इस कदर बाद हवास क्यों हो
उदास होने से फ़ायदा क्या
बताओ रोने से फ़ायदा क्या
जो हो चुका उसपे ख़ाक डालो
नए रास्ते तुम निकालो
उड़ान टूटे परों में भर लो
हवा के लश्कर को तुम फतह कर लो
उदास क्यों हो उदास क्यों हो
तुम इस कदर बदहवास क्यों हो .

3 comments:

  1. महोदय आपकी कविता के भाव सुन्दर है मगर आपने जैसा की पोस्ट का नाम लिखा है ये गजल नहीं है क्योकि न काफिया है न रदीफ़

    गजल व बहर के विषय में कोई भी जानकारी चाहिए हो तो सुबीर जी के ब्लॉग पर जाइये
    इसे पाने के लिए आप इस पते पर क्लिक कर सकते हैं।
    आप यहाँ जा कर पुरानी पोस्ट पढिये

    वीनस केसरी

    ReplyDelete
  2. BAHUT SUNDAR RACHNA..JISE PADH KAR MAZA AAYA...

    ReplyDelete
  3. shukriya rajneesh ji aur venus ji koshish karenge jo bhi kamiyan usko door karein

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...