Wednesday, May 6, 2009

बिल्ली की छींक से छीका टूटा

अयं निज : परोवेति गणना लघु चेतसाम्
उदार चरितानां तु वसुधैव कुटुम्बकम

-हितोपदेश/पंचतंत्र


यह अपना है,यह पराया-ऐसा विचार छोटे ह्रदय वाले लोग करते है
उदार चरित्र वाले मनुष्यों के लिए समस्त संसार ही एक परिवार है


---------------------संस्कृत लोकोक्ति कोश
संपादक-डॉक्टर शशि तिवारी
संस्करण -१९९६
प्रकाशन विभाग -सूचना और प्रसारण मंत्रालय
भारत सरकार

यह श्लोक पंचतंत्र और हितोपदेश से है की मनुस्मृति से


-सुमन
-loksangharsha

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...