Friday, May 29, 2009

जूजू के पीछे के रियल चेहरे

हिन्दुस्तान का दर्द आज आपको बताने जा रहा है उन कलाकारों के बारे में जिनके काम की बदोलत ''जूजू'' ने सभी के दिलों मे जगह बना ली है..तो जानिए इन कलाकारों के बारे में और आपको यह जानकारी कैसी लगी अपनी राय से अबगत जरुर कराएँ


बहुत ही क्यूट, अलग, और मज़ेदार से दिखने वाले जूजू असल में इंसान ही हैं, बस उनको जूजू के कॉस्टयूम पहना दिए गए है। पर ये करना इतना आसान नहीं था, जिस तरह का कॉस्टयूम और एक्ट शूट किए जाने थे उनमे हर मुमकिन कला और रचनात्मकता का प्रयोग किया जाना था। जूजू के पीछे के असल कलाकार कौन है आइये जानते हैं -


प्रार्थना सुनिए विज्ञापन- इस विज्ञापन दो जूजू एक पेड़ से लटके दिखाए गए हैं और नीचे एक खाई है। उनमे से एक गिर जाता है और दूसरा अपना फोन निकलकर एक प्रार्थना सुनाता है जिस से की उस के दोस्त की आत्मा को शांति मिल सके। इस विज्ञापन में हैं ये दो कलाकार-

रोमिंग विज्ञापन- इस में एक जूजू अपनी गर्लफ्रेंड को खुश करने के लिए फ़ोन पर उससे बातें करता रहता है चाहे वो दुनिया के किसी भी कोने में हो। इस विज्ञापन में सबसे बड़ी चुनौती थी एफ्फिल टावर और पिरामिड को जूजू से साइज़ के हिसाब से बनाना। इस एड में भी यही दो कलाकार है


क्रिकेट अलर्ट विज्ञापन- इस फिल्म में चार जूजू दीवार पर बैठकर क्रिकेट का मैच देख रहे है और फिर किसी बात पर सब हँसने लगते हैं। तभी एक जूजू के बॉल लग जाती है और वो दीवार पर से गिर जाता है। इस एड में इन चार कलाकारों ने किया है काम-

बिजी मेसेज विज्ञापन- ये एड भी बड़ा मजेदार है। एक जूजू मगरमच्छ को छेड़ता है पर अगले ही पल मगरमच्छ उसे अपने मुंह में ले लेता है और जूजू का फ़ोन बजता रहता है। अलग अलग भाव दिखने के लिए कई तरह के हाव-भाव बना कर कलाकारों पर चिपकाये गए हैं। रंगाका ने इसमें उस मगरमच्छ का रोल किया है।

अनवांटेड काल्स विज्ञापन- एक जूजू जोड़ी को बार-बार एक मूंफली बेचने वाला जूजू परेशान करता है। तभी मेल जूजू उस वेंडर को जोर से घूंसा मारता है। वेंडर बनी स्टेसी को घूंसा पड़ने पर जोर से गिरती हैं। इस विज्ञापन में ये तीन कलाकार हैं-















आगे पढ़ें के आगे यहाँ

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...