Tuesday, May 26, 2009

पानी की कमी --एक छप्पय -छंद

सारांश यहाँ आगे पढ़ें के आगे यहाँ
छप्पय
आयेगी वह सदी जब , जल कारण हों युद्ध ,
सदियों पहले भी हुए , जल के कारण युद्ध
उन्नत मानव हुआ ,प्रकृति -सह भाव बनाया ,
कुए ,बावडी ,ताल बने ,जन मन हरषाया ।
निज हित में जो नाश प्रकृति का मनुज करता नहीं ,
जल कारण फ़िर युद्ध !यह बात सोच सकता कहीं ॥

3 comments:

  1. बहुत बढ़िया लिखा है आपने!

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया लिखा है आपने

    ReplyDelete
  3. bahut bagiya likha hai aapne

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...