Sunday, May 10, 2009

.मेरी माँ........


हँसती, खिलखिलाती ,मुस्कराती ....मेरी माँ
लिए आँखों में छवि उस ममता की मूरत की
उसकी छाव तले..मिलता ......
मेरे तपते दिल को जो सुकून .....
सूरज सा तेज उसकी आँखों में ....
मिलती चांदनी की ठंडक उसकी पनाहों में ......
प्यार है उसका ..पवन सा पावन.....
मन में उसके शीतलता भरी.........
स्पर्श है उसका जैसे हरता हर
दर्द को मेरे ,
लेती बंलाये वोह मेरी ....
ममता पे वो अपनी ......सदके सदके ..वो वारी वारी ....
माँ.....वो माँ......माँ मेरी ......
(....कृति....अनु....)

4 comments:

  1. यह हुई ना बात अनु जी
    आज का दिन और आपकी नज्म ना हो सब सूना सा लगता है
    मजा आ गया

    ReplyDelete
  2. अनुराधा जी सुन्दर अभिभ्यक्ति

    ReplyDelete
  3. अनुराधा जी सुन्दर अभिभ्यक्ति

    ReplyDelete
  4. behtareen ....rachna....lajawaab...bemisaal..apka jawab nhi anu jiiii

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...