Tuesday, April 14, 2009


कल बस में बात-चित के दौरान एक यात्री ने कुछ प्रश्न खड़े किए,उसने जो कुछ कहा हु -बहू नीचे लिख रहा हूँ ।
" वर्तमान राजनीति के तीन तथाकथित युवा प्रतिनिधि राहुल , प्रियंका और वरुण ,सब के सब गाँधी !कांग्रेस हो या भाजपा गाँधी परिवार हावी है ! क्या देश में एक नेहरु खानदान ही नेता जनने की क्षमता रखता हैं ? कितना बड़ा दुर्भाग्य है हमारा , लोकतान्त्रिक देश में राजवंश की स्थिति बन गई है !क्या भाजपा में वरुण गाँधी को बढावा देकर वंशवाद को मजबूत नहीं किया जा रहा है ? क्या " party with difference " का नारा देने वाली भाजपा अपने मूल्यों और आदर्शों से भाग नही रही ? सत्ता पाने के लिए देश के लोकतंत्र को नेहरू परिवार के हवाले कर देना क्या उचित है ? पता नही , जनता क्या सोचती है ? न जाने क्यूँ कुछ युवा राहुल और वरुण के पीछे पागल हैं ? जो भी हो कम से कम भाजपा को परिवारवाद और वंशवाद से बचना चाहिए था !"
मैंने तो काफी कुछ सोचा । आप भी सोचिये और बताइए क्या इस देश की आने वाली राजनीति में नेहरू परिवार ही एक मात्र विकल्प तो नही होगा ? अगर हुआ , तो इसको रोकना चाहिए कि नही ?

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...