Tuesday, April 28, 2009

Loksangharsha: होम तन हो गया ..



नीड़ निर्माङ में होम तन हो गया
कर्म की साध पर रोम बन हो गया
एक आंधी बसेरा उडा ले चली -
रक्त
आंसू बने मोम तन हो गया

पाप का हो शमन चाहते ही नही
कंस
का हो दमन चाहते ही नही
कुछ
सभाओ में दुस्शासनो ने की ठसक-
द्रोपती का तन वसन चाहते ही नही

सर्जनाये सुधर नही होती
वंदनाएं
अमर नही होती
आप आते मेरे सपनो में-
कल्पनाएँ मधुर नही होती

नम के तारो से बिखरी हुई जिंदगी
फूल कलियों सी महकी हुई जिंदगी
भर नजर देखकर मुङके वो चल दिए-
जाम खाली खनकती हुई जिंदगी

डॉक्टर
यशवीर सिंह चंदेल 'राही'

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...