Sunday, April 26, 2009

Loksangharsha: कभी दिनमान को रोये...



कभी नभ को कभी तम को कभी दिनमान को रोये।
कभी प्रियको कभी अरिको कभी पहचान को रोये ।
अजब संसार की माया सदा घटती रही मुझको
कभी सुख को कभी दुःख को कभी भगवान को रोये॥

रात का साथ हो फिर जरूरी नही।
प्यार की बात हो जरूरी नही ।
नेह कुछ आंसुओ में मिला लीजिये
ये मिलन फिर कभी हो जरूरी नही॥

विष को पी जाए वो चंद्रधर चाहिए।
पाप धुल जायें वो वारिधर चाहिए ।
पीत पर के फहरने का वक्त आ गया
सारथी सा सजग चक्रधर चाहिए ॥

कलयुगी कल्प बीते परखते हुए।
शान्ति सुख खोज में ही भटकते हुए।
मातृ भू पर कृपा राम की हो गई-
भ्रम अचल हो गया है बरसते हुए

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल 'राही'

4 comments:

  1. rahi ji bahut khubsurat kavita hai. agar ho sake to koi prerna se bhari kavita mere blog k lie bhi bheje. dhanyavad.
    www.salaamzindadili.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. जितनी खूबसूरत कविताएँ है उतना ही सजाकर लिखने का ढंग
    बहुत अच्छा

    ReplyDelete
  3. जितनी खूबसूरत कविताएँ है उतना ही सजाकर लिखने का ढंग
    बहुत अच्छा

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...