Monday, April 20, 2009

Loksangharsha


प्यास बढ़कर आज खंजर सी लगे है ।
कांच की दीवार पत्थर सी लगे है ॥

उस परी की निगाहों की कसम -
पुतलियों की शाम सुंदर सी लगे है ॥

है दरख्तों को बहुत उचाईयों का गम -
बंदिशों की फांस अन्दर सी लगे है॥

इंसान जो ईमान हक़ सचाइयो पर है -
पर्वतो की राह कंकर सी लगे है ॥

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल ' राही '

1 comment:

  1. bahut hi badhiya sher.sabse pahla sher to bahut hi badhiya likha hai.

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...