Wednesday, April 15, 2009

Loksangharsha

Loksangharsha


कहेगा कैसे भला कोई वे अमाँ हमको।
की जब नवाज़ रहा है ये आसमां हमको ।

कोई ठिकाना नही है जुनूपरस्तों का
फ़िर आप ढूंढेंगे आख़िर कहाँ कहाँ हमको ।

गुलो का खार जमीं को फलक पड़े कहना
इलाही कर दे हमको इस आलम में बेजबाँ हमको ।

जमीन क्या है मुन्नवर है जिनसे अर्शेवारी
खुशनसीब मिला उनका आसमां हमको।

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल 'राही '

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...