Thursday, April 9, 2009

Loksangharsha: ग़ज़ल

ग़ज़ल

अम्बरीश 'अम्बर '
बाराबंकी

जवां है प्यार व श्रृंगार व मनुहार होली में ।
हमें करना है सागर पार अबकी बार होली में ॥
स्वयं को कुछ नही बच्चों को बस सामान्य सा तोहफा ,
दिया साड़ी है साली को बड़ी रंगदार होली में ।
मोहब्बत की दिशा में , बड़ी दुशवारियाँ लेकिन ,
है पाती इश्क की नौका सही पतवार होली में।
उडे गुझियाँ से सोंधी तथा जब खीर से खुशबू,
छुहारा भी लगे दिखने हमें रसदार होली में।
नशा चढ़ता है जब भी शीश पर होली मनाने का ,
तभी लगती है हर फटकार हमको प्यार होली में ।
बहुत आनंद आता है तभी इस रंग क्रीडा में ,
साथ में जब नए हम उम्र हो दो चार होली में।
चलो मिलकर सजाएं इस तरह गंगो जमन संस्कृति ,
बने दिन से जगह पर एक था ठहरा रहा 'अम्बर' ,
ढूँढने चल पड़ा मैं भी अब अपना प्यार होली में॥

मो.नो-09450277970

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...