Skip to main content

IPL : पोलखोलू ब्लॉग का कर्ताधर्ता कौन ?


आईपीएल-2009 भले ही शुरू से कमजोर चल रहा हो लेकिन इसको लेकर बनाया गया एक ब्लॉग इन दिनों दुनिया भर में चर्चा का विषय बना हुआ है। आईपीएल के खिलाड़ियों को मैदान में जितना डर नहीं लग रहा, जितना इस ब्लॉग से लग रहा है।
फेकआईपीएलप्लेयर नाम से बने इस ब्लॉग ने सबसे अधिक मुसीबत कोलकाता नाइट राइडर्स के सामने खड़ी की है। टीम की अंदरूनी खबरों से लेकर रणनीति तक खुलासा तो इस ब्लॉग पर किया ही जा रहा है लेकिन आईपीएल से जुड़े लोगों को सबसे अधिक तकलीफ नामों के संबोधनों से हैं।
सचिन को बनाया छोटा दैत्य
शाहरूख के लिए इस ब्लॉग में बादशाह डिल्डो का प्रयोग किया गया है। इस शब्द का मतलब इतना अश्लील है कि हम उसे लिख नहीं सकते। लेकिन सचिन तेंदुलकर को छोटा दैत्य बोलना शर्मनाक है। इसी तरह इस ब्लॉग पर प्रीति को बबली नाम से संबोधित किया जा रहा है तो शिल्पा शेट्टी को बिग सिस्टर। विजय माल्या को मिस्टर बाटलीवाला बना दिया गया तो हरभजन सिंह को मीरा बाई। आगरकर को कान मूलो, इशांत शर्मा को लिटिल जॉन और चेंग को जोकर के नाम से संबोधित किया जा रहा है।
कौन है यह ?
अभी तक माना जा रहा है कि कोलकाता नाइट राइडर्स का ही कोई खिलाड़ी अपनी भड़ास निकालने के लिए इस ब्लॉग का संचालन कर रहा है। ब्लॉग के बेनामी लेखक ने भी अपने आपको शाहरुख की टीम का ही खिलाड़ी माना है। लेकिन खुलकर अब तक इसका नाम सामने नहीं आ पाया है। ब्लॉग पर साफ-साफ लिखा गया है कि टीम - 11 में उसका चयन नहीं हो पाने के कारण वह अपनी भड़ास ब्लॉग के माध्यम से निकाल रहा है। जिसका लोगों ने स्वागत भी किया है लेकिन इस खिलाड़ी की भड़ास शाहरूख के अलावा पूरी टीम के तनाव को बढ़ा दिया है।
7 दिन, 28 पोस्ट, चार हजार से अधिक कमेंट
इस ब्लॉग की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दुनिया के अधिकांश अखबारों ने अपना स्पेस इसकी खबरों से भरा है। दूसरी ओर, सात ही दिनों में इस ब्लॉग पर चार हजार से अधिक लोगों ने कमेंट के माध्यम से अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं। जबकि इन सात दिनों में 27 पोस्ट लिखी गई है। मीडिया में आने के बाद इस ब्लॉग की हिट्स रातोंरात बड़ी तेजी से बढ़ गई है।
टीम ने खोज निकाला ब्लॉगर को
कोलकाता नाइट राइडर्स टीम के मैनेजर के दावों पर भरोसा करें तो ब्लॉग के लेखक का नाम पता लग गया है। जल्दी ही इसे पूरी दुनिया के सामने ले आया जाएगा। इस ब्लॉग के आने के बाद से पूरे होटल में लैपटॉप ले जाना प्रतिबंध कर दिया गया है। लेकिन बेनामी नाम से लिखे जा रहे इस ब्लॉग के लेख ने दावा किया है कि वह लगातार ड्रेसिंग रूम से लेकर खिलाड़ियों के बेडरूम तक का आंखों देखा हाल देता रहेगा।
आप बताएं कौन है फेक प्लेयर ?
फेक प्लेयर ब्लॉग के कारण सबसे अधिक दिक्कतों का सामने कोलकाता नाइट राइडर्स के पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली को उठाना पड़ रहा है। कुछ का मानना है कि दादा का ही कोई चहेता इसे लिख रहा है। चूंकि ऐन वक्त पर गांगुली को जिस तरह कप्तानी से हटाया गया, हो सकता है कि गांगुली ही इस ब्लॉग के रचयिता हों। लेकिन कयास सिर्फ गांगुली तक ही सीमित नहीं हैं बल्कि मुरली कार्तिक, आकाश चोपड़ा के नाम भी संदेह के किया जा रहा है। इसके अलावा भी कोई हो सकता है जो इन खिलाड़ियों का नजदीकी हो जो इनसे मिली जानकारी के आधार पर इस ब्लॉग को लिख रहा हो।
यदि आपको किसी खिलाड़ी पर शक है तो हमें जरूर बताएं। आपके कमेंट को हम प्रमुखता के साथ प्रकाशित करेंगे।
आगे पढ़ें के आगे यहाँ

Comments

  1. यह ब्लॉग जिस के इशारे पर चल रहा है बह है ''शाहरुख़ खान'' जी हाँ शाहरुख़ खान एक ऐसे शख्स है जो अपनी टीम की ड्रेस हो या cheersgirl हर चीज़ से सोहरत कमाना चाहते है! और किया भी ऐसा ही!
    यह ब्लॉग निश्चित रूप से शाहरुख़ का नया फंडा है जिसकी बदोलत टीम के साथ जायदा जायदा से लोगों को जोड़ना चाहते है ! सुनील गावस्कर हो या अमिताभ शाहरुख़ किसी की इज्जत नहीं करते इसलिए सचिन और बांकी खिलाडियों की इज्जत की गुंजाईश भी उन्ही से कम है,तो आप इस बात पर मुहर लगा दीजिये,मेरी बात सत प्रतिसत सच है!
    संजय सेन सागर
    www.yaadonkaaaina.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. यह ब्लॉग जिस के इशारे पर चल रहा है बह है ''शाहरुख़ खान'' जी हाँ शाहरुख़ खान एक ऐसे शख्स है जो अपनी टीम की ड्रेस हो या cheersgirl हर चीज़ से सोहरत कमाना चाहते है! और किया भी ऐसा ही!
    यह ब्लॉग निश्चित रूप से शाहरुख़ का नया फंडा है जिसकी बदोलत टीम के साथ जायदा जायदा से लोगों को जोड़ना चाहते है ! सुनील गावस्कर हो या अमिताभ शाहरुख़ किसी की इज्जत नहीं करते इसलिए सचिन और बांकी खिलाडियों की इज्जत की गुंजाईश भी उन्ही से कम है,तो आप इस बात पर मुहर लगा दीजिये,मेरी बात सत प्रतिसत सच है!
    संजय सेन सागर
    www.yaadonkaaaina.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. संजय जी वाकई आपका ब्लॉग तारीफ के काबिल है. gar kabhi waqt mile to mere blog par bhi aayen.

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत शुक्रिया आपकी खुबसूरत पंक्तियों के लिए और मेरी बनाई हुयी स्केच पसंद आने के लिए!
    आप हर चीज़ को इतना सुंदर रूप से लिखते हैं की क्या बताऊ ! सचिन मेरा सबसे मनपसंद खिलाड़ी है और जो भी अपने लिखा है बिल्कुल सही है! मैं आपका ब्लॉग रोजाना पड़ती हूँ!

    ReplyDelete
  5. संजय जी की बात से कुछ हद तक सहमत हूँ किंग खान हो सकता है

    ReplyDelete

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

Popular posts from this blog

युवाओं में लोकप्रिय 'मस्तराम' पर बनेगी फिल्म, लेकिन नहीं होगी अश्लील

अखिलेश जायसवाल ‘मस्तराम’ नामक फिल्म बनाने जा रहे हैं। विगत सदी के मध्यकाल में ‘मस्तराम’ नामक काल्पनिक नाम से कोई व्यक्ति अश्लील किताबें लिखता था, जिन्हें उस दौर के अधिकांश कमसिन उम्र के लोग चोरी-छुपे पढ़ते थे। मध्यप्रदेश और राजस्थान तथा ग्रामीण महाराष्ट्र क्षेत्र में ‘भांग की पकौड़ी’ नामक अश्लील उपन्यास युवा लोगों में अत्यंत लोकप्रिय था। अध्यात्मवादी भारत में सेक्स विषय को प्रतिबंधित किया गया, इसलिए मस्तराम और भांग की पकौड़ी जैसी गैर वैज्ञानिक एवं नितांत घातक किताबें चोरी छुपे खूब पढ़ी गई हैं और 21वीं सदी में भी इस विषय को प्रतिबंधित ही रखा गया है तथा पाठ्यक्रम में कभी शामिल नहीं किया गया है, जिस कारण मनोवैज्ञानिक गुत्थियां कमसिन उम्र के अपने भूत रचती रही हैं। अखिलेश दावा कर रहे हैं कि वे मस्तराम की काल्पनिक आत्मकथा पर फिल्म रच रहे हैं और अश्लीलता से अपनी फिल्म को बचाए रखेंगे। कमसिन उम्र एक अलसभोर है, जिसमें अंधेरा ज्यादा और रोशनी कम होती है। आज इंटरनेट पर उपलब्ध अश्लील फिल्में कम वय के लोगों को जीवन के सत्य का एक अत्यंत काल्पनिक और फूहड़ स्वरूप उपलब्ध करा रही हैं। टेक्नोलॉजी ने अश्ली…

हीरों की चोरी

आमतौर पे जब भी ये बात होती है की अंग्रेजों ने किस सबसे कीमती हीरे या रत्न को अपने देश से चुराया है तो सबके ज़बान पे एक ही नाम होता है- कोहिनूर हीरा.जबकि कितने ही ऐसे हीरे और अनोखे रत्न हैं जो बेशकीमती हैं और जिन्हें विदेशी शाशकों और व्यापारी यहाँ से किसी न किसी तरह से ले जाने में सफल रहे.कितने तो ऐसे हीरे और रत्न हैं जो हमारे देश के विभिन्न मंदिरों से चुराए गए...इस पोस्ट में देखिये कुछ ऐसे दुर्लभ,अनोखे और अदभुत हीरे,जो हमारे देश में पाए गए लेकिन अब अलग अलग मुल्कों में हैं या फिर कहीं गुमनाम हो गए हैं.


कोहिनूर


कोहिनूर के बारे में किसे नहीं पता, हर भारतीय को शायद ये मालुम होगा की यह बहुमूल्य हीरा फिलहाल ब्रिटिश महारानी के ताज की शोभा बढ़ा रहा है.105 कैरट  का कोहिनूर एक दुर्लभ हीरा है और यह हीरा आंध्र प्रदेश के गोलकुंडा खान में मिला था.गोलकुंडा खान बहुत समय तक(जब तक ब्राजील में हीरों की खोज नहीं हुई थी)विश्व में हीरों का एक मात्र श्रोत था.कोहिनूर हीरा कई राजा महराजाओं के पास से होता हुआ अंततः महाराज रंजीत सिंह के पास पंहुचा.महराज रंजीत सिंह की मरते वक्त ये आखरी ईच्छा(उनके वसीयत में भी इस ब…

रूसो का विरोधाभास ......

रूसो को प्रजातंत्र का पिता माना जाता है ।
अन्य प्रबुद्ध चिन्तक जहाँ व्यक्ति के स्वतंत्रता की बात करते है , वही रूसो समुदाय के स्वतंत्रता की बात करता है ।
अपने ग्रन्थ सोशल कोंट्रेक्त में घोषित किया की सामान्य इच्छा ही प्रभु की इच्छा है ।
रूसो ने कहा की सभी लोग समान है क्योंकि सभी प्रकृति की संतान है ।
कई स्थलों पर रूसो ने सामान्य इच्छा की अवधारणा को स्पस्ट नही किया है ।
एक व्यक्ति भी इस सामान्य इच्छा का वाहक हो सकता है । अगर वह उत्कृष्ट इच्छा को अभिव्यक्त करने में सक्षम है ।
इसी स्थिति का लाभ फ्रांस में जैकोवियन नेता रोस्पियर ने उठाया ।