Thursday, April 9, 2009

कुण्डली

आचार्य संजीव 'सलिल'

पुरखे थे हिन्दू मगर हैं मुस्लिम संतान।
मजबूरी में धर्म को बदल बचाई जान।
अब अवसर फिर से गहें, निज पुरखों की राह।
मजबूरी अब है नहीं, मिलकर पायें वाह।
कहे 'सलिल' कविराय बिंदु से हो फिर सिन्धु।
फिर हिन्दू हों आप, रहे पुरखे भी हिन्दू।

***********************************

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...