Sunday, April 5, 2009

आज की राजनीति ... सेवा न होकर गन्दा व्यवसाय हो गया

आज की राजनीति ... घिन आती हैकोई विचारधारा नही , कोई मकसद नही .... सेवा होकर गन्दा व्यवसाय हो गया हैसाफ़ सुथरा व्यवसाय होता तो भी ठीक थासेवा की बात तो करना बेमानी हैयह गन्दा व्यवसाय है जिसमे लेन देन का कोई नियम नहीकेवल लूट खसोट है ... बेईमानी हैयही कारण है की घिन आती हैलोग कहते है की युवाओं को आगे आना चाहिए ...बिल्कुल आगे आना चाहिएकेवल युवा ही क्यों , हर अच्छे आदमी को आना चाहिएअफ्शोश वह कोई सेलेक्सन का प्रोशेष तो है नहीकिसी भी बाहरी आदमी को अछूत समझा जाता हैउन्हें हटाने के लिए किसी हद तक हमारे आदरणीय नेता जा सकते है
न तो आदर्श है, न सोच है, न उसूल हैं और न ही कोई विचारधारा है। जो अजेंडा चुनाव से पहले जितने जोर-शोर से प्रचारित किया जाता है, चुनाव के बाद उसका कहीं नामोनिशान नहीं मिलता। चुनाव से पहले तमाम वादे किए जाते हैं। लोगों की समस्याओं को खत्म करने के इरादे जाहिर किए जाते हैं। लेकिन वोट पड़ने के बाद ये सब हवा हो जाते हैं। लोगों को मुसीबतों से मुक्ति नहीं मिलती। समस्याएं जस की तस बनी रहती हैं। वैसे तो इन्फ्रास्ट्रक्चर की बात होनी चाहिए, शिक्षा की बात होनी चाहिए, ऊर्जा की बात होनी चाहिए, स्वास्थ्य की बात होनी चाहिए, गरीबी की बात होनी चाहिए.....होती भी है केवल एक महीने भाषणों में ........

5 comments:

  1. बहुत अच्छा लिखा है

    ReplyDelete
  2. निश्चित तौर पर आज राजनीति गन्दी हो चुकी है इसी का नतीजा है की युवा पीढी राजनीति से दूर भाग रही है

    ReplyDelete
  3. kya kiya jaaye, ek aadh neta agar acche kaam krna chahta bhi hai to use golion se uda dete hai.

    ReplyDelete
  4. kya kiya jaaye, ek aadh neta agar acche kaam krna chahta bhi hai to use golion se uda dete hai.

    ReplyDelete
  5. When I initially commented I clicked the "Notify me when new comments are added" checkbox and now each time a comment is added I get several emails with the same comment.
    Is there any way you can remove people from that service?

    Thanks a lot!

    Look at my website; GrowXL

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...