Thursday, April 9, 2009

ग़ज़ल मनु बेतखल्लुस, दिल्ली

बेखुदी, और इंतज़ार नहीं,
छोड़ आई नज़र क़रार कहीं
तेरी रहमत है, बेपनाह मगर
अपनी किस्मत पे ऐतबार नहीं
निभे अस्सी बरस, कि चार घड़ी
रूह का जिस्म से, क़रार नहीं
सख्त दो-इक, मुकाम और गुजरें,
फ़िर तो मुश्किल, ये रह्गुजार नहीं
काश! पहले से ये गुमां होता,
यूँ खिजाँ आती है, बहार नहीं
अपने टोटे-नफे के राग न गा,
उनकी महफिल, तेरा बाज़ार नहीं
जांनिसारी, कहो करें कैसे,
जां कहीं, और जांनिसार कहीं

********************************

2 comments:

  1. अनूठी रचना...."जांनिसारी, कहो करें कैसे...जां कहीं और जांनिसार कहीं"
    क्या बात है
    मनु जी आपकी इसी बेतखल्लुसी पे तो फ़िदा हैं हम..

    ReplyDelete
  2. मनु जी की ग़ज़ल को पढना एक सुखद अहसास रहा
    मैंने मनु जी को उनकी रचनाओं के साथ हिन्दुस्तान का दर्द पर आमंत्रित भी किया था
    आज का दिन अब अच्छा जायेगा !

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...