Friday, April 10, 2009

सभी ब्लाॅग दर्शको को मेरा नमस्कार


मैं निहारिका श्रीवास्तव जीवाजी विश्वविद्यालय में पत्रकारिता एंव जनसंचार विभाग की द्वितीय वर्ष की छात्रा हूँ। हमारे स्नानोकत्तर के चतुर्थ सत्र में एक लघु शोध पत्र तैयार करना होता है। जिसके सन्दर्भ मे हमें जानकारी एकत्रित करनी होती है। मेरे शोध पत्र का विषय है।

विषय ------- बेव पत्रकारिता का बिकास एंव संभावनाये।

इसे तैयार करने के लिए मुझे कुछ प्रश्नों के उत्तर भी चाहिए होगें। जो मेरे शोध पत्र को तैयार करने में सहायक शिद्ध होगें। प्रश्न निम्न प्रकार है।

प्रश्न-- न्यूज पेपर क्या है?

प्रश्न--पोर्टल क्या है?


प्रश्न--डाॅट इन, डाॅट काम, डाॅट . आर. जी. तथा अन्य सबंधित शब्दों के अर्थ एवं बेव पत्रकारिता में उनकी भूमिका?

प्रश्न-- भारत में बेव पत्रकारिता का प्रचलन कैसा है एंव मुख पोर्टल कौन कौन से है?

प्रश्न-- वेब पत्रकारिता के विभिन्न स्वरूप एंव उनके समक्ष आने वाली चुनौतिया क्या है।


मैं आशान्वित हूँ कि आप मेरे प्रश्नों के उत्तर अवश्य देगें। और आपके विचार मेरे इस लधु शोध पत्र के लिए संजीवनी बूटी के समान सहायक शिद्ध होंगे।
अन्य सभी ब्लाॅग के दर्शकों से भी मेरा अनुरोध है कि यदि आप इन प्रश्नों के अतिरिक्त मेरे शोध पत्र से संबधित अन्य कोई जानकारी रखते है तो आप हमें अपने ज्ञान से अनुगृहित करें।
मेरा इमेल पता ---naina7786@जीमेल.कॉम


प्रार्थी

निहारिका श्रीवास्तव
जनसंचार एंव पत्रकारिता अध्ययन केन्द्र
जीवाजी विश्वविद्यालय
ग्वालियर (मध्य प्रदेश)

1 comment:

  1. e- newspaper yani electronic newspaper. sabhi hindi, english ya anya bhashaon ke newspaper jo internate edition nikalte hain, we e- newspaper kahlate hain.
    portal- yani blog. kuchh log web site ko bhi portal kahte hain.
    baki ke sawalon ke jawab main nahin bata sakta.

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...