Thursday, April 16, 2009

मेरा ब्लॉग मेरी बात ,

लिखते लिखते थक गए हाथ ,
गुजरा दिन गुजरी रात ,
कुछ लिखने की बात
पर न बने हालत ,
तब मैंने बनाया
मेरा ब्लॉग मेरी बात ,


जज्बात बह रहे थे
पर कैसे बदले हालत सब मौन थे
फिर मेरे भाई
तब मैंने बनाया
मेरा ब्लॉग मेरी बात ,


तुम लिखोगे तो क्या होगा
जब अच्छे अछ्के बिक गए
जब कलम भी घिस गयी
और न बदले हालत
तब मैंने बनाया
मेरा ब्लॉग मेरी बात ,


आप परेशां न हो
टेंसन न ले
क्यकी आने वाला कल
कर देगा बरबाद
तब मैंने बनाया
मेरा ब्लॉग मेरी बात ,

मैं बोलूँगा बिस घोलूँगा
बदलूँगा हालत
कल आज और कल
अपनी ताक़त के साथ
तब मैंने बनाया
मेरा ब्लॉग मेरी बात ,

ये बिस कुछ नया कर दिखायेगा
बदलेगी कल की सूरत
और बदलेगा इतिहास
पर कैसे बदले हालत
केवल और केवल जाने
मेरा ब्लॉग मेरी बात ,

"अम्बरीष मिश्रा" अब आपके साथ
"अम्बरीष मिश्रा" अब आपके साथ


सारांश यहाँ आगे पढ़ें के आगे यहाँ

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...