Tuesday, April 21, 2009

कब समझेंगे

लोग ये बात आख़िर कब समझेंगे ।
बिगडे शहर के हालत ,कब समझेंगे ।

ये है तमाशबीनों का शहर यारो ,
कोई न देगा साथ ,कब समझेंगे ।

जांच करने कत्ल की कोई न आया ,
माननीय शहर मै आज,कब समझेंगे ।

चोर डाकू,लुटेरे पकड़े न जाते ,
सुरक्षा चक्र है जनाब,कब समझेंगे ।

कब से खड़े हैं आप लाइन मैं बैंक की ,
व्यस्त सब पीने मैं चाय,कब समझेंगे ।

बढ रही अश्लीलता सारे देश मैं ,
सब सोराहे चुपचाप,कब समझेंगे।

श्याम, छाई है बेगैरती चहुओर,
क्या निर्दोष है आप, कब समझेंगे ॥
--डा.श्याम गुप्त .

3 comments:

  1. बहुत ही खुबसूरत लिखा है आपने !

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरत दोस्त!
    आपका सहयोग मिल रहा है अच्छा लगता है..आगे भी आप से इसी तरह के सहयोग की आशा के साथ.......
    संजय सेन सागर
    जय हिन्दुस्तान-जय यंगिस्तान
    मोबाइल-९९०७०४८४३८

    ReplyDelete
  3. बबली जी , धन्यवाद ।हौसला बढाये रखिए,नज़र बनाये रखिये ।
    कविता पढ्ते रहिये,गज़ल बनाते रहिये ।
    -डा श्याम गुप्त


    सन्जय जी ,
    सहयोग देते रहिये।

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...